सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) या C.P.U.

cpu, c.p.u., central processing unit, microprocessor, micro processer,सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) या C.P.U. कंप्यूटर  का एक बहुत ही मुख्य भाग है जिसके आभाव में कंप्यूटर की कल्पना करना असंभव है। सी० पी० यू० का मुख्य कार्य कंप्यूटर प्रोग्रामो को क्रियान्वित करना है। इसके साथ साथ C.P.U. कंप्यूटर के विभिन्न भागो जैसे - मेमोरी , इनपुट , और आउटपुट , डिवाइस के कार्यो को भी नियंत्रित करना है। प्रोग्राम और डाटा कंप्यूटर में C.P.U. के नियंत्रण में मेमोरी में संग्रहित होता है। इसे की नियंत्रण के द्वारा डाटा कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देता है और प्रिंटर पर प्रिंट भी होता है। माइक्रो कंप्यूटर में C.P.U. एक छोटा सा माइक्रोप्रोसेसर होता है। C.P.U. के माइक्रोप्रोसेसर पर तीन भागो का परिपथ होता है। जिन्हें हम CU, ALU, और REGISTER कहते है। माइक्रो प्रोसेसर के अविष्कार से पहले कंप्यूटर का परिपथ ट्रंजिस्टरो को संयोजित करके तैयार किया जाता था। कंप्यूटर को अधिक कार्यकुशल बनाने के लिए इन परिपथों में ट्रन्जेस्ट्रो की संख्या को अत्यधिक बढ़ाया गया। जिसके कारण ट्रंजिस्टरो का परिपथ जटिल होता गया और परिपथ में अधिक ताप उत्पन होने से इनके ख़राब होने की सम्भावना होने लगी। अतः अब एक ऐसी चिप की आवश्यकत हुई। जिसमे अनेक ट्रांजिस्टरों के तुल्य परिपथ हो। 
सबसे पहला माइक्रोप्रोसेसर सन 1970 में इंटेल कारपोरेशन (INTEL CORPORATION) ने Intel 4004 के रूप में तैयार किया Intel 4004 चिप में लगभग २३०० ट्रांजिस्टरों के बराबर क्षमता थी माइक्रो प्रोसेसर  आधे इंच का वर्गाकार सिलिकॉन पदार्थ का टुकड़ा होता है। जो एक छोटे खोल में छोटे छोटे कनेक्टर्स के साथ व्यवस्थित रहता है। इंटेल ४००४ चिप के बाद माइक्रोप्रोसेसर की तकनीक विकसित होती गयी। 
Intel 80286 में १३०००० ट्रांजिस्टर तथा Intel 80486 में १२०००० ट्रांजिस्टरों के बराबर परिपथ होते है। अब तो पेन्टियम 1, पेन्टियम 2, पेन्टियम 3, पेन्टियम 4, Dual Core, Core २ Due,Cuard Core, i3, i5 और i7 आदि उच्च क्षमता वाले माइक्रोप्रोसेसर विकसित हो चुके है।  

No comments:

Post a Comment