दो अलग - अलग कम्प्यूटरो में डुप्लीकेट फाइल कैसे तलाशे (How to find duplicate file in Two Deferent computers)

अगर आप दो अलग अलग कम्प्यूटर पर एक ही डुप्लीकेट फाइल की तलास करना चाहते है तो आपको Duplicate फाइल्स की तलाश के लिए Anti Twin  को एक बहुत ही बहतरीन सॉफ्टवेयर माना जाता है। यह एक बहुत ही पावरफुल टूल है जो नेटवर्क्स ऑफ़ कनेक्टेड Computer में भी डुप्लीकेट फाइल्स तलाश कर लेता है।  Anti Twin दो तरीके से डुप्लीकेट फाइल्स को Compare करता है। फाइल्स Properties चेक करके। इंटरनल कंटेंट को Byte by Byte एनालिसिस करके।  Anti Twin सॉफ्टवेयर सपोर्ट के साथ आता है , जिसमे अफ्रीकन जर्मन और फ्रेंच अंग्रेजी आदि भाषाए सामिल है।  साथ ही यह आपकी विभिन्न डुप्लीकेट फाइल्स को डिलीट करने में सहायता करता है। 

इंटरनेट पर वायरल होने वाली फेक न्यूज़ पहचानने का आसान तरीका - How to Identify Fake News on Internet

how to identify fake news
आज के समय में कोई भी खबर जाहे वो किसी भी क्यों न हो वह इन्टरनेट पर तेजी से वायरल होने लगती है। ऐसे में ये पता लगाना मुश्किल हो जाता है की कोनसी न्यूज़ असली है और कौनसी न्यूज़ नकली कई बार खबरों के चलते अफवाह भी फलने लगती है। और कई बार तो फेक खबरे साम्प्रदायिक हिंसा का कारण भी बन जाती है। ऐसे में आपको खुद ही इन खबरों पर कड़ी निगाहे बनाने की जरूरत होगी और जानना होगा कि कोनसी खबर में कितनी सच्चाई है। आप निचे दिए गए तरिको का प्रयोग करके कुछ हद तक फेक न्यूज़ को पहचान सकते है।
वेबसाइट क्लिक करने से पहले रखे ध्यान :
जो भी वेबसाइट Lo, Co.Com, Com.Co के ख़तम होती है यानि उनका URL में ऐसे शब्द अंत में आते है तो उन पर क्लिक न करे। बेकार की वेबसाइट में सनसनी फैलाने के लिए ऐसी खबरों को पेश किया जाता है।

राइटर का नाम न हो : 
यदि किसी खबर या स्टोरी में राइटर का नाम और उसकी प्रोफाइल न दी गयी हो तो भरोसा न करे।  कारण ऐसी खबरे झूठी हो सकती है।

एक ही नाम की कई स्टोरी:
अगर को कोई इन्वेस्टिगेशन वेबसाइट को देखते है तो उसमे एक ही राइटर के नाम पर दिन में कई पब्लिश स्टोरी होती है। ऐसे में आपको सतर्क हो जाना चाहिए क्योकि हो सकता है कि ये वेबसाइट सिर्फ व्यावसायिक उद्देश्य के लिए ही चलायी जा रही हो। इससे सच्चाई से काम ही लेना देना होगा।

अन्य स्रोतों से ले मदद :
आप अन्य स्रोतों जैसे वेबसाइट और गूगल की न्यूज़ से भी पता कर ले की क्या ये सच में ही एक सच्ची न्यूज़ है अगर किसी सही और नमी वेबसाइट या अख़बार में उस बात की जानकारी दी जाती है तभी खबर पर भरोसा करे अन्यथा नहीं।
उपरोक्त दिए करे आसान से निर्देशो का पालन करे आप कुछ हद तक रियल और फेक न्यूज़ के बारे में जानकारी ले सकते है। 

USB के द्वारा दो लैपटॉप को कैसे कनेक्ट करे (How to Connect To Laptop via USB Cable)

यदि आप एक लैपटॉप से दूसरे लैपटॉप में फाइल को ट्रान्सफर करना चाहते है। तो इस काम को आप एक USB केबल के माध्यम से बड़े ही आसानी से कर सकते है। USB Cable के द्वारा दो लैपटॉप्स को कनेक्ट करने पर ये आपको दोनों कंप्यूटर्स के बीच फाइल्स को ट्रांसफर करने की परमीशन देते है। इसके माध्यम से आप प्रिंटर, इन्टरनेट कनेक्शन और हार्डवेयर को शेयर कर सकते है। एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर के बीच नेटवर्किंग कनेक्शन उस समय बहुत मददगार होता है जब लैपटॉप का प्रोसेसर तेजी से कार्य न कर रहा हो। एक नेटवर्किंग USB केबल या ब्रिज केबल आपको दो कम्प्यूटर के बीच तेजी से फाइल्स ट्रांसफर करने की अनुमति देता है। इसके लिए आपको नेटवर्किंग कार्ड ऐड करने या एक्सपेंसन बोर्ड इन्स्टॉल करने की भी जरुरत नहीं होती है। 
         दोनों लैपटॉप को एक दूसरे से कनेक्ट करने  के लिए सबसे पहले दोनों लैपटॉप को बंद कर दे।इसके बाद दोनों लैपटॉप में दिए गए USB का पता लगाये। आमतौर पर USB Ports लैपटॉप के साइड में होते है। नेटवर्किंग केबल के एक सिरे को लैपटॉप पर दिए गए फ्री पोर्ट से प्लग करे और अन्य लैपटॉप के फ्री पोर्ट को केबल के दूसरे सिरे से प्लग करे। अब दोनों लैपटॉप को ऑन करे। आपको लैपटॉप की स्क्रीन पर Detecting new hardware message दिखाई देगा। जोकि दिखायेगा की दोनों लैपटॉप के बीच डाटा ट्रांसफर हो सकता है। अब USB Cable को लिंक मोड में स्विच कीजिये इस तरह दोनों लैपटॉप के बीच डाटा ट्रांसफर होने लगेगा। 
स्टेप 1 : कन्ट्रोल पैनल को ओपन करना है। 
स्टेप 2 : कन्ट्रोल पैनल में Network Connections को सेलेक्ट करना है। 
स्टेप 3 : अब Create New Connection पर क्लिक करना है। 
स्टेप 4 : Set up an advanced connection को सेलेक्ट करके Next करना है। 
स्टेप 5 : अब आपको Connect directly to another computer को सेलेक्ट करके Next  क्लिक करना है। 
स्टेप 6 : अब आपको Host या Guest option में से किसी एक को सेलेक्ट करना है जैसे host कम्प्यूटर को भी सेलेक्ट कर सकते है। और next पर क्लिक करना है। 
 स्टेप 7 : अगले स्टेप में आपको अपनी usb केबल को सेलेक्ट करना है। और next पर क्लिक करना है। 
स्टेप 8 : next पर क्लिक करने के बाद आप का कनेक्शन कनेक्ट हो जायेगा जिसे आप डाटा शेयर करने के लिए प्रयोग कर सकते है। 

बूटेबल पेन ड्राइव कैसे बनाये (How to Make Bootable USB Pen Drive)

make bootable pen drive, make usb pen drive, usb pen drive banana, create bootable pen drive by using ms dos
यदि आप अपने पेन ड्राइव के द्वारा अपने कम्प्यूटर में विण्डो डालना चाहते है तो सबसे पहले आपको अपने पेन ड्राइव को बूटेबल बनाना होगा। अपने पेन ड्राइव को बूटेबल बनाने के लिए आपको कुछ ईजी से स्टेप्स को फॉलो करना होगा। जिसके लिए दो तरीके है।  पहला तरीका सॉफ्टवेयर के द्वारा पेन ड्राइव को बूटेबल बनाना और दूसरा तरीका Command Prompt के द्वारा पेन ड्राइव को बूटेबल बनाना। 
सॉफ्टवेयर के द्वारा बुटबल पेन ड्राइव बनाना:
बुटबल पेन ड्राइव बनाने वाले सॉफ्टवेयर को WinUsb Maker कहते है इस सॉफ्टवेयर को आपको डाउनलोड करना होगा। इस सॉफ्टवेयर को आप Winusb-Maker.findmysoft.com से भी डाउनलोड कर सकते है इसके बाद आपके इस सॉफ्टवेयर की सहायता से बूटेबल पेन ड्राइव Create कर सकते है। 

Command Prompt के द्वारा USB Bootable पेन ड्राइव बनाना:
इसतरीके से आप बिना किसी सॉफ्टवेयर की सहायता के बूटेबल पेन ड्राइव बना सकते है जिसके लिए आपको हमारे द्वारा दिए गए कुछ इजी स्टेप्स को फॉलो करना होगा। 
  1. सबसे पहले आपको Command Prompt को Open करना होगा। 
  2. जब Command Prompt हो जाये तो आपको Command Prompt में Diskpart लिखकर Enter कीजिये। 
  3. अब Listdisk लिखकर Enter बटन दबाइये अब आपको अवेलेबल Disks दिखने लगेगी। 
  4. जिस पेन ड्राइव को बूटेबल बनाना है वो पेन ड्राइव भी इस लिस्ट में दिखाई देगी। इस ड्राइव को Drive Letter याद रखे। 
  5. अब Select Disk (अपनी Disk का No) फिर Enter कीजिये। 
  6. इसके बाद Clean लिखे और Enter कीजिये। 
  7. Clean Partition Primary लिखकर Enter कीजिये। 
  8. अब Select Partition 1 लिखकर Enter बटन दबाये। 
  9. फिर Partition को active करने के लिए Active लिखकर Enter बटन दबाये। 
  10. USB को format करने के लिए Format-Fs-Fat32 लिखकर Enter बटन दबाये। 
  11.  Bootable Drive को नाम देने के लिए Assign लिखकर Enter दबाये। 
  12. Command Prompt से बाहर जाने की लिए Exit लिखकर Enter बटन दबाये। 
  13. अब कोई भी Windows Operating System चुने और उसकी Install को disk में copy कर दीजिये। 
इन दोनों तरीको से आप अपनी पेन ड्राइव को  बूटेबल बना सकते है और Windows Install कर सकते है।अगर यदि आपको पेन ड्राइव को बनाने में कोई समस्या सामने आती है तो आप comment बॉक्स में बता सकते है।

वर्ल्ड वाइड वेब क्या है (What is World Wide Web)

www, world wide web, about wwwवर्ल्ड वाइड वेब (www - World Wide Web) इन्टरनेट के एक बहुत ही लोकप्रिय सर्विस है। आज हम www की विशेषताओ के बारे में जानेगे। इसमें हाइपर टेक्स्ट इनफार्मेशन होती है जो की टेक्स्ट एक सामान्य पुस्तक की तरह एक दृढ और लीनियर स्ट्रक्चर में पढ़ने के बजाये आप एक चोर से दूसरे छोर तक आसानी से जा सकते है। और आसानी से वापस पीछे  भी जा सकते है। एक टॉपिक से दूसरे टॉपिक पर जा सकते है। और आप उस टेक्स्ट को पढ़ सकते है जिसे आप पढ़ना चाहते है। इसके अलावा www ग्राफिकल और आसान है यह हमें टेक्स्ट के साथ साथ विडियो, साउंड, देखने की सुविधा भी देता है। और नए ब्राउज़र तो मल्टीमीडिया से जुडी इनफार्मेशन भी दिखाते है। इसके सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ये सभी कार्य बहुत आसान होते है। आप आसानी से एक लिंक पर क्लिक करके दूसरे पेज पर जा सकते है। तथा एक साइट से दूसरी साइट पर जा सकते है और एक सर्वर से दूसरे सर्वर पर भी मूव कर  सकते है। www क्रॉस प्लेटफॉर्म है। यदि आप इन्टरनेट से जुड़े हुए है। तो आप वर्ल्ड वाइल्ड वेब को भी एक्सेस कर सकते है। वर्ल्ड वाइड वेब किसी एक तरह की मशीन या एक ही कम्पनी द्वारा चलाई गयी मशीन से बांध हुआ नहीं है। यह पर पूर्ण रूप से क्रोस प्लेटफॉर्म होता है। इसका अर्थ है की आप वेब को किसी भी कंपनी के हार्डवेयर पर किसी भी  ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ तथा किसी भी प्रकार के डिस्प्ले के  साथ  एक्सेस कर सकते है। वेब इतना अधिक मात्रा में सुचना इसलिए प्रदान करता है क्योकि यह इनफार्मेशन हजारो वेब साइट पर बिखरी हुई है प्रत्येक वेबसाइट अपने पास उपलब्ध सुचना की लिए स्पेस रखती है शेष सूचना उस वेबसाइट को लिंक करके मिल जाती है। किसी भी इनफार्मेशन को चाहने वाले को केवल उस वेबसाइट  पर जाना होता है जिसको इनफार्मेशन देखना चाहते है।